Tuesday, December 29, 2015

IMPORTANCE OF ALOVERA IN PSORIASIS

सोरायसिस में घृतकुमारी का महत्व 

घृतकुमारी या आम प्रचलन में एलोवेरा  एक ऐसा पौधा है जो कि विशेषकर जल के अभाव में पलता और बढ़ता है।  इस कारण उसमें जल को संचित कर रखने की क्षमता काफी अधिक होती है।  इस कारण यह आदिकाल से एक मॉइस्चरिसेर के रूप में प्रचलित है।

मॉइस्चराइज़ेशन की प्रक्रिया से ऊपर की मृत त्वचा फटती नहीं है। त्वचा के न फटने से त्वचा का स्वरुप बना रहता है तथा किसी भी प्रकार के संक्रमण से भी सुरक्षा रहती है।

शीत व रूक्ष काल में मॉइस्चराइज़ेशन का मानव संस्कृति में भिन्न भिन्न प्रकार  प्रचलन  रहा है। इसी हेतु के निदानार्थ सोरायसिस में यह व्यथा प्रचलित होने के कारणवश सोरायसिस में मॉइस्चरिज़तिओन का विधान है तथा एलोवेरा का विशेष प्रचलन है। 
Post a Comment
googleb26b7a67763adfb7.html